Blog Page 2

गीता दर्शन–(प्रवचन–141)

क्षेत्रज्ञ अर्थात निर्विषय, निर्विकार चैतन्‍य—( प्रवचन—दूसरा) अध्‍याय—13 (गीता सूत्र:) ऋषिभिर्बहुधा गीतं छन्दौभिर्विविधै: पृथक। ब्रह्मसूत्रदैश्चैव हेतुमद्भिर्विनिश्चितै:।। 4।। महाभूतान्‍हंकारो बुद्धिरव्‍यक्‍तमेव च। हन्द्रियाणि दशैकं च पंज्च चेन्दियगोचरा:।। 5।। इच्छा द्वेष: सुखं दुख...

गीता दर्शन–(प्रवचन–140)

दुःख से मुक्‍ति का मार्ग: तादात्‍मय का विसर्जन—(प्रवचन—पहला) अध्‍याय—13 सार—सूत्र: श्रीमद्भगवद्गीता अथ त्रयौदशोऽध्याय: श्री भगवानुवाच: ड़दं शरीर कौन्तेय क्षेत्रीमित्यीभधीयते। एतद्यो वेत्ति तं पाहु: क्षेत्रज्ञ इति तद्धिद:।। 1।। क्षेत्रज्ञं चापि मां विद्धि...

गीता दर्शन–(प्रवचन–139)

आधुनिक मनुष्‍य की साधना—(प्रवचन—ग्यारहवां) अध्‍याय—12 सूत्र— तुल्यनिन्दास्तुतिमौंनी संतुष्‍टो थेन केनचित्। अनिकेत: स्थिरमतिभक्‍तिमान्मे प्रियो नर:।। 19।। ये त धर्म्‍यामृतमिदं यथोक्‍तं पर्युयासते। श्रहधाना मत्यरमा भक्तास्‍तउतीव मे प्रिया:।। 20।।   तथा जो निंदा— स्तुति...

गीता दर्शन–(प्रवचन–138)

सामूहिक शक्‍तिपात ध्‍यान—(प्रवचन—दसवां) अध्‍याय—12 सूत्र: जीवन उतना ही नहीं है, जितना आप उसे जानते हैं। आपको जीवन की सतह का भी पूरा पता नहीं है, उसकी गहराइयों...

गीता दर्शन–(प्रवचन–137)

भक्‍ति और स्‍त्रैण गुण—(प्रवचन—नौवां) अध्‍याय—12 सूत्र— वो न ह्रष्यति न द्वेष्टि न शोचति न कांक्षति। शुभाशुभयीरत्यागी भक्तिमान्य: स मे प्रिय:।। 17।। सम: शत्रौ च मित्रे च तथा मानायमानयो:। शीतोष्णसुखदुःखेषु सम:...

गीता दर्शन–(प्रवचन–136)

उद्वेगरहित अहंशून्‍य भक्‍ति—(प्रवचन—आठवां) अध्‍याय—12 सूत्र— यस्माब्रोद्धिजते लोको लोकान्‍नोद्वोजते च य:। हषीमर्बभयोद्वेगैर्मुक्‍तो यः स च मे प्रिय:।। 15।। अनयेक्ष: शू्चिर्दर्थ्य उदासीनो ग्लव्यथ:। सर्वारम्भयश्त्यिगी यो मद्यक्त: स मे प्रिय:।। 16।। तथा...

गीता दर्शन–(प्रवचन–135)

परमात्‍मा का प्रिय कौन—(प्रवचन—सांतवां) अध्‍याय—12 सूत्र— अद्वेष्टा सर्वभूतानां मैत्र:—— करुण एव च। निर्ममो निरहंकार: समदुःखसुखः शमी।। 13।। संतुष्ट: सततं योगी यतात्मा दृढीनश्चय:। मय्यर्पितमनोबुद्धियों मद्भक्तः स मे प्रिय:।। 14।। इस प्रकार...

गीता दर्शन–(प्रवचन–134)

कर्म—योग की कसौटी—(प्रवचन—छठवां) अध्‍याय—12 सूत्र— अथैतदष्यस्थ्योऽसि कर्तुं मद्योगमख्सि। सर्क्कर्मकलत्यागं न: कुरु यतक्ष्मवान्।। 11।। श्रेयो हि ज्ञानमभ्यासत् ज्ञानद्धयानं विशिष्यते । ध्यानात्कर्मफलत्‍याग: त्यागाव्छान्तिरनन्तरम्।। 12।।   और यदि हमको भी करने के लिए असमर्थ है,...

गीता दर्शन–(प्रवचन–133)

अहंकार घाव है—प्रवचन—पांचवां अध्‍याय—12 सूत्र— अथ चित्‍तं समाधातुं न शक्‍नोषि मयि स्‍थिरम्। अभ्यातयोगेन नो मामिच्‍छाप्तुं धनंजय।। 9।। अभ्यासेऽध्यसमर्थोऽसि मत्कर्मयरमो भव। मदर्थमीय कमगॅण कुर्वीन्सघ्रईमवाप्स्यीस।। 10।।   और तू यदि मन को मेरे...

गीता दर्शन–(प्रवचन–132)

संदेह की आग—प्रवचन—चौथा अध्‍याय—12 सूत्र- तेषामहं समुद्धर्ता मृत्युसंसारसागरात्। भवामि नचिरात्यार्थ मय्यावेशितचेतसाम्।। 7।। मय्येव मन आधत्‍स्‍व मयि बुद्धिं निवेशय। निवीसष्यीस मय्येव अत ऊर्ध्व न संशय:।। 8।।   हे अर्जुन? उन मेरे में चित्त...

गीता दर्शन–(प्रवचन–131)

पाप और प्रार्थना—(प्रवचन—तीसरा) अध्‍याय—12 सूत्र— क्लेशोऽम्मितरस्लेशमस्थ्यासक्लचेतसाम्। अव्‍यक्‍ता हि गतिर्दु:खं देहवद्भिरवाप्‍यते ।। 5।। ये तु सवींणि कर्माणि मयि संन्यस्य मत्‍परा:। अनन्येनैव योगेन मां ध्यायन्त उपासते।। 6।। किंतु उन सच्चिदानंदघन निरस्कार ब्रह्म...

गीता दर्शन–(प्रवचन–130)

दो मार्ग: साकार और निराकार—(प्रवचन—दूसरा) अध्‍याय—12  सूत्र— ये त्‍वक्षरमनिर्दश्यमव्‍यक्‍तं यर्युयासते। सर्वत्रगमचिन्‍त्‍यं च कूटस्थमचलं ध्रुवम्।। 3।। संनियम्येन्द्रियग्रामं सर्वत्र समबद्धय:। ते प्राम्नुवन्ति मामेव सर्वभूतहिते रता:।। 4।। और जो पुरूष इंद्रियों के समुदाय...

गीता दर्शन–(प्रवचन–129)

प्रेम का द्वार: भक्‍ति में प्रवेश—(प्रवचन—पहला) अध्‍याय—12 (श्रीमद्भगवद्गली अथ द्वद्वशोऽध्याय)  अर्जन उवाच: एवं सततयुक्ता ये भक्तास्‍त्वां ययुंपासते। ये चाप्यक्षरमक्तं तेषां के यीगीवत्तमा: ।।। 1।। श्रॉभगवानवाच: मय्यावेश्य मनो ये मां...

गीता—दर्शन—(भाग—6) (ओशो)

गीता—दर्शन—(भाग—6) (ओशो) अध्‍याय—(12—13)  (ओशो द्वारा श्रीमद्भगवदगीता के अध्‍याय बारह ‘भक्‍तियोग’ एवं तेरह ‘क्षेत्र—क्षेत्रक—विभाग—योग’ पर दिए गए तेईस अमृत प्रवचनों का अर्पूव संकलन।) जो शब्‍द अर्जुन से कहे...

गीता दर्शन–(प्रवचन–128)

आंतरिक सौंदर्य—(प्रवचन—बारहवां) अध्‍याय—11 सूत्र— श्रीभगवानुवाच:  गर्दर्शमिदं रूपं दृष्टवानसि यन्यम। देवा अप्यस्य रूपस्य नित्यं दर्शनकाक्षिण:।। 52।। नाहं वेदैर्न तयसा न दानेन न चेज्यया। शक्य एवंविधो दृष्‍टुं दृष्टवानसि मां यथा।। 53।। भक्त्‍या त्वनन्यया शक्य...

गीता दर्शन–(प्रवचन–127)

मांग और प्रार्थना—(प्रवचन—ग्‍यारहवां) अध्‍याय—11 सूत्र-- मा ते व्‍यथा मा च विमूढभावो दृष्‍ट्वा रूपं घोरमीदृड्ममेदम्। व्‍यपेतभी: प्रीतमना: पुनस्‍त्‍वं तदेव मे रूपमिद प्रयश्य।। 49।। संजय उवाच: ड़त्यर्जुनं वासुदेवस्तथोक्ला स्वकं रूयं दर्शयामास...

गीता दर्शन–(प्रवचन–126)

मनुष्‍य बीज है परमात्‍मा का—(प्रवचन—दसवां) अध्‍याय—11 सूत्र— अदृष्‍टपूर्व हषितोउस्‍मि दष्टवा भयेन च प्रव्यथितं मनो मे। तदेव मे दर्शय देवरूयं प्रसीद देवेश जगन्निवास।। 45।। किरीटिनं गदिनं चक्रहस्तमिच्छामि त्वां द्रकुमहं...

गीता दर्शन–(प्रवचन–125)

चरण—स्‍पर्श का विज्ञान—(प्रवचन—नौवां) अध्‍याय—11 सूत्र— सखेति मत्वा प्रसभं क्ट्रूम्क्तंक हे कृष्ण हे यादव हे सखेति। अजानता महिमानं तवेदं मया प्रमादात्‍प्रणयेन वापि।। 41।। यच्चावहासार्थमसरूतोउसि विहारशय्यासनभोजनेषु। एकोउथवाध्यम्हत तत्समक्षं तकामये त्वामहमप्रमेयम्।। 42। पितासि लोकस्य...

गीता दर्शन–(प्रवचन–124)

बेशर्त स्‍वीकार—(प्रवचन—आठवां) अध्‍याय—11 सूत्र— सजय उवाच: एतच्‍छुत्वा वचनं केशवस्थ कृताज्जलिर्वेयमान किरीटी। नमस्कृत्वा भूय एवाह कृष्णं सगद्गदं भीतभीत प्रणम्य।। 35।। अर्जुन उवाच: स्थाने हृषीकेश तव प्रकीर्त्या जगत्यहृष्यगुरज्यते च। रक्षांसि भीतानि...

गीता दर्शन–(प्रवचन–123)

साधना के चार चरण—(प्रवचन—सांतवां) अध्‍याय—11 सूत्र— श्रीभगवागुवाच: कालोउस्थि लोकक्षयकृत्यवृद्धो लोकान्समाहर्तुमिह प्रवृत्त:। ऋतेउयि त्वां न भविष्यन्ति सर्वे येउवस्थिता प्राचनीकेषु ।। 32।। तस्मात्त्वमुत्तिष्ठ यशो लभस्व जित्वा शत्रून्भुड्क्ष्‍व राज्यं समृद्धम्। मयैवैते निहता: पूर्वमेव...

गीता दर्शन–(प्रवचन–122)

पूरब और पश्‍चिम: नियति और पुरूषार्थ—(प्रवचन—छठवां) अध्‍याय—11 सूत्र— यथा प्रदीप्तं ज्वलनं पतंगा विशन्ति नाशाय समृद्धवेगाः। तथैव नाशाय विशन्ति लोकास्तवायि वक्ताणि समृद्धवेगाः।। 29।। लेलिह्यमे ग्रसमान: समन्ताल्लोकान्समग्रान्त्रदनैर्ज्वलदभि:। तेजोभिरायर्य जगत्ममग्रं...

गीता दर्शन–(प्रवचन–121)

अचुनाव अतिक्रमण है—(प्रवचन—पांचवां) अध्‍याय—11 सूत्र: रूपं महत्ते कवक्तनेत्रं महाबाहो बहुबाक्रयादम्। बहूदरं बहुदंष्ट्राकरालं हूड़वा लोका: प्रव्यथितास्तथाहम्।। 23।। नभ:स्पृशं दीप्तमनेकवर्णं व्यात्ताननं दीप्तविशालनेत्रम्। दृष्ट्रवा हि त्वां प्रव्यखितान्तरात्मा धृतिं न विन्दामि...

गीता दर्शन–(प्रवचन–120)

परमात्‍मा का भयावह रूप—(प्रवचन—चौथा) अध्‍याय—11 सूत्र: त्वमक्षरं परमं वेदितव्यं त्वमस्य विश्वस्य परं निधानम। त्वमध्यय: शाश्वतधर्मगोप्ता सनातनस्ल पुरुषो मतो मे।।। 18।। अनादिमध्यान्तमनन्तवीर्यमनन्तबाहुं शशिसूर्यनेत्रम्। पश्यामि त्वां दीप्तहुताशवक्तं स्वतेजसा विश्वमिदं तपन्तम्।। 19।। द्यावायृथिव्योरिदमन्तरं...

गीता दर्शन–(प्रवचन–119)

धर्म है आश्‍चर्य की खोज—(प्रवचन—तीसरा) अध्‍याय—11 सूत्र— दिवि सूर्यसहसस्थ भवेह्यगफत्सिता। यदि भा: सदृशी सा स्यादृभासस्तस्थ महात्मन:।। 12।। तत्रैकस्थं जगकृत्‍स्‍नं प्रविभक्तमनेकधा। अयश्यद्देवदेवस्थ शरीरे पाण्डवस्तदा।। 13।। तत: छ विस्मयाविष्टो हृष्टरोमा धनंजय:। प्रणम्य...

गीता दर्शन–(प्रवचन–118)

दिव्‍य—चक्षु की पूर्व—भूमिका—(प्रवचन—दूसरा) अध्‍याय—11 सार—सूत्र: न तु मां शक्यसे द्रष्‍टुमनेनैव स्वच्रुषा। दिव्यं ददामि ते चक्षु: पश्य मे योगमैश्वरम।। 8।।  संजय उवाच: श्वमुक्ला ततो राजन्यहायोगेश्वरो हरि:। दर्शयामास पार्थाय परमं रूपमैश्वरम्।। 9।। अनेकवक्तनयनमनेकादूभुतदर्शनम्। अनेकदिव्याभरणं...

गीता दर्शन–(प्रवचन–117)

विराट से साक्षात की तैयारी—(प्रवचन—पहला)  श्रीमद्रभगवद्रगीता (अथ एकादशोउध्‍याय:) अध्‍याय--11  अर्जुन उवाच: मदनुग्रहाय परमं गुह्यमध्यात्मसंज्ञितम्। यत्वयोक्तं वचस्तेन मोहोउयं विगतो मम।। 1।। भवाध्ययौ हि भूतानां श्रुतौ विस्तरशो मया। त्वत: कमलयत्राक्ष माहात्म्यमपि चाव्ययम्।। 2।। एवमेतद्यथात्थ...

गीता दर्शन–(प्रवचन–116)

मंजिल है स्‍वयं में—(प्रवचन—पंद्रहवां) अध्‍याय—10 सूत्र— यच्चायि सर्वभूतानां बीजं तदहमर्जुन। न तदस्ति विना यत्‍स्‍यान्मया भूतं चराचरम्।। 39।। नान्तोउस्ति मम दिव्यानां विभूतीना परंतप। एक् तूद्देशत: प्रोक्तो विभूतेर्विस्तरो मया।। 40।। यद्यद्विभूतिमत्सत्वं श्रीमदूर्जितमेव...

गीता दर्शन–(प्रवचन–115)

परम गोपनीय—मौन—(प्रवचन—चौदहवा) अध्‍याय—10 सूत्र— द्यूतं छलयतामस्मि तेजस्तेजस्विनामहम्। जयोउस्थि व्यवसायोउस्मि सत्त्वं सत्ववतामहम्।। 36।। वृष्णीनां वासुदेवोउस्मि पाण्डवानां धनंजय:। मुनीनामध्यहं व्यास: कवीनामुशना कवि:।। 37।। दण्डो दमयतामस्मि नीतिरस्मि जिगीषताम। मौनं चैवास्मि गुह्यानां ज्ञानं ज्ञानवतामहम्।। 38।। हे अर्जुन...

गीता दर्शन–(प्रवचन–114)

मैं शाश्‍वत समय हूं—(प्रवचन—तेरहवां) अध्‍याय—10 सूत्र— अक्षराणामकारोउस्थि द्वन्द्व: सामासिकस्य च। अहमेवाक्षय: कालो धाताहं विश्वतोमुख:।। 33।। मृत्यु: सर्वहरश्चाहमुद्रभवश्च भविष्यताम्। कीर्ति: श्रीर्वाक्य नारीणा क्यृतिर्मेधा धृति: क्षमा।। 34।। बृहत्साम तथा सामा गायत्री छन्दसामहम्। मासानां...

गीता दर्शन–(प्रवचन–113)

शस्‍त्रधारियों में राम—(प्रवचन—बारहवां) अध्‍याय—10 सूत्र: पवन: पवतामस्मि राम: शस्त्रभृतामहम्। झषाणां मकरश्चास्मि स्रोतसामस्थि जाह्नवी।। 3।। सर्गाणामादिरन्तश्च मध्यं चैवाहमर्जुन। अध्यात्मविद्या विद्यानां वाद: प्रवदतामहम्।। 32।।  और मैं पवित्र करने वालों में वायु...

गीता दर्शन–(प्रवचन–112)

काम का राम में रूपांतरण—(प्रवचन—ग्‍यारहवां) अध्‍याय—10 सूत्र— आयुधानामहं वज्रं धेनूनामास्‍मि कामधुक्। प्रजनश्चास्थि कन्दर्प: सर्याणामस्मि वासुकि:।। 28।। अनन्तश्चास्मि नागानां वरुणो यादसामहम्। पितृणामर्यमा चास्मि यम: संयमतामहम्।। 29।। प्रह्वादश्चास्मि दैत्यानां काल: कलयतामहम्। मृगाणां न...

गीता दर्शन–(प्रवचन–111)

आभिजात्‍य का फूल—(प्रवचन—दसवां) अध्‍याय—10 सूत्र— अश्वत्थ: सर्ववृक्षाणां देवर्षीणां च नारद:। गन्‍धर्वाणां चित्ररथ: सिद्धानां कपिलो मुनि:।। 26।। उच्चै: श्रवसमश्वानां विद्धि माममृतोदृभवम्। ऐरावत गजेन्द्राणां नराणां च नराधियम्।। 27।। और सब वृक्षों...

गीता दर्शन–(प्रवचन–110)

मृत्‍यु भी मैं हूं—(प्रवचन—नौवां) अध्‍याय—10 (गीता दर्शन भाग—5) सूत्र: रुद्राणां शंकरश्चास्मि वित्तेशो यक्षरक्षसाम्। वसूनां पावकश्चास्मि मेरु: शिखरिणामहम्।। 23।। गुरोधसां च मुख्य मां विद्धि पार्थ बृहस्थतिम्। सेनानीनामहं स्कन्द: सरसामस्मि...

गीता दर्शन–(प्रवचन–109)

सगुण प्रतीक—सृजनात्‍मकता, प्रकाश, संगीत और बोध के—(प्रवचन—आठवां) अध्‍याय—10 सूत्र: आदित्यानामहं विश्वर्ज्योतिषां रविरंशुमान्। मरीचिर्मस्तामस्मि नक्षत्राणामहं शशी।। 21।। वेदानां सामवेदोउस्थि देवानामस्मि वासव:। ड़न्द्रियाणां मनश्चास्मि भूतानामस्मि चेतना।। 22।। और हे अर्जुन मैं अदिति...

गीता दर्शन–(प्रवचन–108)

शास्‍त्र इशारे हैं—(प्रवचन—सातवां) अध्‍याय—10 सूत्र: विस्तरेणात्मनो योगं विभूतिं च जनार्दन। भूय: कथय तृप्तिर्हि मृण्वतो नास्ति मेउमृतम्।। 18।।  श्रीभगवानुवाच: हन्त ते कथयिष्यामि दिव्या ह्यात्मविभूतयः। प्राधान्यत कुस्फेष्ठ नास्त्यन्तो विस्तरस्थ मे।। 19।। अहमात्मा...

गीता दर्शन–(प्रवचन–107)

स्‍वभाव की पहचान—(प्रवचन—छठवां) अध्‍याय—10 सूत्र स्वयमेवात्मनात्मान वेत्थ लै गुरुषोत्तम। भूतभावन भूतेश देवदेव जगत्पते।। 15।। वक्‍तुमर्हस्यशेषेण दिव्या ह्यात्मविभूतयः। याभिर्विभूतिभिर्लोकानिमांस्त्‍व व्याप्य तिष्ठसि।। 16।। कथं विद्यामहं योगिंस्वा सदा यरिचिन्तयन्। केषु केषु च भावेषु चिज्योउसि...

गीता दर्शन–(प्रवचन–106)

कृष्‍ण की भगवता और डांवाडोल अर्जुन—(प्रवचन—पांचवां) अध्‍याय—10 अर्जुन उवान परं ब्रह्म परं धाम पवित्रं परमं भवान्। गुरुक शाश्वतं दिव्यमादिदेवमज विभुम्।। 12।। आहुस्त्‍वमृषय सर्वे देवर्षिर्नारदस्तथा। असितो देवलो व्यास: स्वयं चैव ब्रवीषि...

गीता दर्शन–(प्रवचन–105)

ध्‍यान की छाया है समर्पण—(प्रवचन—चौथा) अध्‍याय—10 सूत्र: मच्चित्ता मद्गतप्राणा बोधयन्त: परस्थरम्। कथयन्तश्च मां नित्यं तुष्यन्ति च रमन्ति च।। 9।। तेषां सततयुक्तानां भजतां प्रीतिपूर्वकम्। ददामि बुद्धियोग तं येन मामुययान्ति ते।। 10।। तेषामेवानुकम्पार्थमहमज्ञानज...

गीता दर्शन–(प्रवचन–104)

ईश्‍वर अर्थात ऐश्‍वर्य—(प्रवचन—तीसरा) अध्‍याय—10 सूत्र: एतां विभूति योगं च मम यो वेत्ति तत्वत:। सोऽविकम्पेन योगेन युज्यते नात्र संशय:।। 7।। अहं सर्वस्व प्रभवो मन: सर्वं प्रवर्तते। ड़ति मत्वा भजन्ते मां बुधा...

गीता दर्शन–(प्रवचन–103)

रूपांतरण का आधार—निष्‍कंप चित्‍त और जागरूकता—(प्रवचन—दूसरा) अध्‍याय—10  सूत्र: बुद्धिर्ज्ञानमसम्मोह क्षमा सत्यं दम: शम:। सुखं——दुखं भवोऽभावो भयं चाभयमेव च।। 4।। अहिंसा समता तुष्टिस्तयो दानं यशोउयश। भवन्ति भावा भूतानां मल एव...